newsdog Facebook

कांग्रेस की लहर ने चौंका दिए शहर: कांग्रेस ने दोनों हाथों से जीता पालमपुर, भाजपा की कसरत भी नहीं आई काम

Divya Himachal 2021-04-08 01:08:25

कांग्रेस ने दोनों हाथों से जीता पालमपुर

भाजपा की कसरत भी नहीं आई काम, कांग्रेस के दोनों कवरिंग कैंडिडेट जीते



जयदीप रिहान—पालमपुर

पालमपुर को भाजपा का दिया नगर निगम का तोहफा दिए जाने का फैसला रास नहीं आया है। नगर निगम चुनाव में कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन करते हुए भाजपा को पूरी तरह से साफ क र दिया है। हालात यह कि चुनावों पर नजरें गड़ाए भाजपा की कांग्रेस के उम्मीदवारों के नामांकन रद करवाने की कसरत भी काम नहीं आई। इतना ही नहीं, कांग्रेस टिकट न मिलने पर आजाद उम्मीदवार के तौर पर उतरे वार्ड तीन से दिलबाग सिंह भी चुनाव जीत गए, वहीं भाजपा के बागी वार्ड सात से संजय राठौर ने भी चुनाव जीत कर टिकट आबंटन को लेकर अपनी नाराजगी को सही साबित कर दिया है। चुनावों में टिकट आबंटन के बाद कांग्रेस और भाजपा दोनों में विरोध की ज्वाला उठी थी, जिसके चलते भाजपा के चार और कांग्रेस के दो उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतर गए।

भाजपा ने अपने चार बागियों को निलंबित किया था, तो कांग्रेस ने दो उम्मीदवारों को निष्कासित कर दिया था। अवैध कब्जे के नियमों के तहत पूर्व नगर परिषद अध्यक्ष राधा सूद और आईमा पंचायत के पूर्व प्रधान ओंकार चंद का नामांकन रद करने पर वहां से कवरिंग कैंडीडेट मैदान में थे। वार्ड दो पालमपुर अप्पर से सोना सूद और वार्ड चार से पूर्व उपप्रधान अनीश नाग चुनाव मैदान में थे। कांग्रेस के यह दोनों कवरिंग कैंडीडेट जीत दर्ज करने में सफल रहे। कांग्रेस के बागी उम्मीदवार दिलबाग सिंह ने वार्ड तीन से कांग्रेस व भाजपा के अधिकृत उम्मीदवारों को परास्त कर दिया, तो वार्ड सात से भाजपा के बागी उम्मीदवार संजय राठौर ने जीत दर्ज की भाजपा द्वारा वोट वितरण पर उठाए सवालों को प्रमाणित कर दिया। (एचडीएम)

पालमपुर में एकतरफा जंग

पालमपुर नगर निगम का चुनाव एकतरफा साबित हुआ है। पालमपुर के कुल 15 वार्डों में से कांग्रेस 11 पर विजयी हुई है, जबकि भाजपा को सिर्फ दो वार्डों से संतोष करना पड़ा है, जबकि कांग्रेस और भाजपा के एक-एक बागी उम्मीदवार भी जीत दर्ज करने में कामयाब हुए हैं।

धर्मशाला में बहुमत से एक कदम दूर रह गई भाजपा

पवन कुमार शर्मा—धर्मशाला

नगर निगम धर्मशाला के चुनावों में सत्ताधारी दल भाजपा को बढ़त मिली है, और यहां आठ सीटें भाजपा की आई हैं। कांग्रेस को पांच सीटों पर ही संतोष करना पड़ा है, जबकि चार प्रत्याशी आजाद चुनाव जीत कर आए हैं। इनमें दो भाजपा समर्थित हैं, और दो ही कांग्रेस समर्थित हैं। नगर निगम धर्मशाला के चुनावों में भले ही भाजपा पहले नंबर पर रही हो, लेकिन उन्हें स्पष्ट बहुमत नहीं मिल पाया है। बहुमत के आंकड़े से भाजपा यहां एक कदम पीछे है। उन्हें आजाद प्रत्याशी के बहुमत से ही महापौर व उपमहापौर के पद मिल सकते हैं। इस तरह से यदि जो चार प्रत्याशी चुनाव जीत कर आए हैं, वे अपनी-अपनी विचारधारा को समर्थन करते हैं, तो भाजपा के पास दस का आंकड़ा हो जाएगा और कांग्रेस का आंकड़ा सात पहुंच जाएगा। ऐसे में कहा जा सकता है कि सत्ताधारी दल की यहां लाज बच गई ह और नगर निगम चुनावों में कांग्रेस को एक बार बड़ा झटका लगा है। हालांकि नतीजों पर नजर दौड़ाई जाए तो पिछली बार के जो पार्षद थे, वह अधिकतर चुनाव जीत कर आए हैं।

नगर निगम के पिछली बार के दोनों महापौर चुनाव जीत कर आए हैं, इनमें रजनी व्यास खनियारा वार्ड और देवेंद्र जग्गी रामनगर से शामिल हैं। भाजपा के उपमहापौर ओंकार नेहरिया भी किसी अन्य वार्ड मकलोडगंज से चुनाव जीत कर आए हैं। पिछली बार के जो भाजपा के पार्षद थे, सर्वचंद गलोटिया, भाजपा ने उनकी टिकट काट दी थी, लेकिन वह आजाद चुनाव लड़ने के बाबजूद चुनाव जीत कर फिर से पार्षद बने हैं। इसी तरह से वार्ड नंबर नौ से सुषमा देवी ने आजाद प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा था, वह भी चुनाव जीती हैं। पिछली बार देवेंद्र जग्गी की टीम में थीं। इसी तरह वार्ड नंबर 12 से स्वर्णा देवी जो कांग्रेस की पिछली बार पार्षद थीं, कांग्रेस ने उनकी टिकट काट दी थी, लेकिन वह भी इस बार आजाद प्रत्याशी के रूप में चुनाव जीतकर आई हैं। ऐसे में अनुमान लगाया जा सकता है कि जो भी पिछली बार के पार्षद थे, जनता ने एक बार फिर उन पर भरोसा जताया है। इसके अलावा भाजपा की ही तेजेंद्र कौर जो पिछली बार पार्षद थीं, वह भी चुनाव जीत कर आई हैं। नगर निगम के इन चुनावों को 2022 के पहले का सेमीफाइनल माना जा रहा था, और धर्मशाला हिमाचल की दूसरी राजधानी है, यहां सबकी नजरें लगी हुई थी। प्रचार प्रसार के लिए भी भाजपा और कांग्रेस दोनों ने पूरी ताकत यहां पर झोंक दी थी। केंद्रीय राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर तक को चुनाव मैदान में उतार दिया था। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी यहां प्रचार के लिए यहां वार्ड-वार्ड में घूमे रहे थे। (एचडीएम)

सोलन में कांग्रेस ने चौंकाया पलट दिए चुनावी परिणाम

मुकेश कुमार—सोलन

सोलन नगर निगम में कांग्रेस ने जीत का परचम लहरा कर बहुमत प्राप्त कर लिया है।  कुल 17 वार्डो में घोषित परिणामों में से कांग्रेस को नौ व भाजपा को सात सीटें प्राप्त हुई हैं, जबकि एक सीट पर आजाद उम्मीदवार जीतकर आए हैं। चुनावों में पूर्व मंत्री व सोलन से कांग्रेस के विधायक कर्नल धनीराम शांडिल की लोकप्रियता एक बार फिर से सिद्ध हुई है, वहीं दूसरा तरफ भाजपा के विधायक डा. राजीव बिंदल का करिश्मा इस बार नहीं चला है। ‘दिव्य हिमाचल’ ने अपने विश्लेषण में इस बात के  पहले से ही संकेत दिए थे कि सोलन नगर निगम में कांटे की टक्कर होने वाली है।  17 वार्डो की मतगणना में सी-सा के खेल की तरह कभी कांग्रेस तो कभी भाजपा के पक्ष में बाजी पलटती रही तथा मुकाबला ऐन वक्त तक रोचक बना रहा।

 पहले नौ वार्डो के परिणाम में भाजपा बहुत सुखद दिखाई दी, लेकिन बाद में घोषित आठ वार्डों के परिणामों ने भाजपा के मंसूबों पर पानी फेर दिया।  वार्ड नंबर 10 से 17 वार्ड तक कांग्रेस ने छह वार्डो में जीत दर्ज कर मुकाबला एकतरफा कर दिया। वार्ड नंबर एक से आजाद उम्मीदवार मनीष सोपाल ने भाजपा को पटकनी दी है। वार्ड नंबर दो से भाजपा उम्मीदवार सुषमा शर्मा विजयी घोषित की गई हैं। वार्ड तीन से भाजपा की उम्मीदवार रजनी ने जीत दर्ज की है। वार्ड चार से कांग्रेस की उम्मीदवार संगीता ठाकुर ने जीत दर्ज की है। वार्ड पांच से भाजपा उम्मीदवार कुलभूषण गुप्ता विजय रहे हैं। वार्ड नंबर छह से भाजपा उम्मीदवार  रेखा साहनी 1160 वोट लेकर विजयी रहीं। इसी प्रकार वार्ड सात से कांगे्रस की पूजा 669 वोट लेकर विजयी रहीं, जबकि भाजपा की उम्मीदवार सोना नाहर सोना नाहर 274 वोट मिले। इसके आलावा वार्ड नंबर आठ से कांग्रेस की उम्मीदवार पूनम ग्रोवर विजय रहीं। पूनम को 997 मत प्राप्त हुए हैं, जबकि भाजपा के पवन गुप्ता को 627 मत प्राप्त हुए हैं। वार्ड नौ से भाजपा उम्मीदवार शैलेंद्र गुप्ता विजयी रहे हैं।

इस वार्ड से शैलेंद्र को 773 मत प्राप्त हुए हैं, जबकि कांग्रेस के उम्मीदवार हितेंद्र को 375 वोट मिले हैं। वार्ड नंबर 10 से  कांग्रेस की उम्मीदवार ईशा पराशर 690 मत प्राप्त कर विजयी रही भाजपा उम्मीदवार इंदु सूद को 658 मत प्राप्त हुए हैं। इसी प्रकार वार्ड नंबर 11 से कांग्रेस के उम्मीदवार अभय शर्मा विजयी रहे हैं, उन्हें 678 वोट मिले हैं, जबकि भाजपा के उम्मीदवार अभिषेक ठाकुर को 590 वोट मिले हैं। वार्ड नंबर 12 से कांग्रेस की उषा शर्मा 719 वोट लेकर विजयी रहे। वार्ड नंबर 13 से मीरा आनंद, 14 से कांग्रेस के राजीव , 15 से कांग्रेस की संतोष, 16 से भाजपा की उम्मीदवार  विजयी रहीं, जबकि 17 से कांग्रेस के सरदार सिंह जीते हैं। (एचडीएम)