newsdog Facebook

रूस की Sputnik-V वैक्सीन की भारत में एंट्री, देश में टीकाकरण को मिलेगी रफ्तार

nayaindia.com 2021-05-01 00:00:00

नई दिल्ली। भारत में कोरोना से मचे कोहराम के बीच वैक्सीन (COVID Vaccine) की कमी को पूरा करने के लिए रूस की स्पुतनिक वैक्सीन (Russian Vaccine Sputnik-V) आज शनिवार भारत पहुंच गई है. स्पुतनिक वैक्सीन (Sputnik-V) के भारत पहुंचने के साथ ही तीसरे चरण के वैक्सीनेशन में तेजी देखने को मिलेगी. भारत में 18 से 44 साल के लोगों के लिए तीसरे चरण का वैक्सीनेशन आज से शुरू हो गया है.

ये भी पढ़ेंः- Lockdown in Delhi : दिल्ली में कम नहीं हुआ संक्रमण, 10 मई तक और बढ़ाया गया Lockdown

रूसी स्पूतनिक वी वैक्सीन दो खुराक का टीका है. पहली खुराक लेने के बाद 21वें दिन दूसरी खुराक लेनी होगी. टीका लेने के 28वें और 42वें दिन के बीच शरीर में कोरोना वायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाएगी. स्पूतनिक-वी वैक्सीन को गमालया नेशनल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी द्वारा विकसित किया गया है.

ये भी पढ़ेंः- Oxygen की कमी को देखते हुए Reliance ने विदेश से Oxygen के 24 टैंकर एयरलिफ्ट किए

Sputnik-V तीसरे चरण के परीक्षण में 91.6 प्रतिशत प्रभावी साबित हुई है और कोई दुष्प्रभाव भी नजर नहीं आया. ‘द लांसेट’ जर्नल में प्रकाशित आंकड़ों के अंतरिम विश्लेषण में यह दावा किया गया है. अध्ययन के ये नतीजे करीब 20,000 प्रतिभागियों से एकत्र किए गए आंकड़ों के विश्लेषण पर आधारित हैं.

ये भी पढ़ेंः- पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन की कोरोना से मौत, पहले तिहाड़ जेल प्रशासन ने बताया था अफवाह

वहीं दूसरी ओर भारतीय नौसेना ने भी कोरोना के खिलाफ जंग में पहले ही अपने अस्पताल, डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ झोंक दिए हैं और अब जंगी जहाजों ने भी मोर्चा संभाल लिया है. देश में मेडिकल ऑक्सीजन की कमी को खत्म करने के लिए भारतीय नौसेना ने विदेशों से ऑक्सीजन कंटेनर लाने के लिए 7 जहाजों को तैनात किया है.

ये भी पढ़ेंः- UP News : गौतम बुद्ध नगर जिले में 182 पुलिसकर्मी कोरोना वायरस से संक्रमित